पीजीआईएम इंडिया म्यूचुअल फंड ने लांच किया बैलेंस्ड एडवांटेज फंड

मुंबई: पीजीआईएम इंडिया म्यूचुअल फंड ने ‘पीजीआईएम इंडिया बैलेंस्ड एडवांटेज फंड’ लॉन्च किया है। यह एनएफओ (NFO) सब्सक्रिप्शनके लिए खुल गया है। इसमें 29 जनवरी 2021 तक निवेश किया जा सकता है। फंड का बेंचमार्क इंडेक्स क्रिसिल हाइब्रिड 50+50 मॉडरेट इंडेक्स है। इस स्कीम का मकसद निवेशकों की आय में बढ़ोतरी और उनमें इसका वितरण है।

इस फंड में बेहद कारगर तरीके से इक्विटी और फिक्स्ड इनकम इंस्ट्रूमेंट्स के बीच एसेट आवंटन किया जाएगा। इसके लिए इक्विटी डेरिवेटिव स्ट्रेटीज, आर्बिट्रेज के मौकों और पूरी तरह इक्विटी में निवेश की रणनीति अपनाई जाएगी। यह स्कीम इक्विटी और फिक्स्ड इनकम एसेट में निवेश डाइवर्सिफाई कर वोलेटिलिटी को कम करने की कोशिश करेगी। फंड का प्रबंधन अनिरुद्ध नाहा (इक्विटी निवेश के लिए), कुमारेश रामाकृष्णन (डेट और मनी मार्केट निवेश के लिए) और आनंद पद्मनाभन (विदेशी निवेश के लिए) करेंगे।

पीजीआईएम इंडिया म्यूचुअल फंड के सीईओ अजित मेनन ने कहा “बैलेंस्ड एडवांटेज फंड कैटेगरी निवेशकों के लिए बेहतरीन इनवेस्टमेंट सॉल्यूशन है। यह एक मॉडल पर काम करता है, जिससे खुद ब खुद इक्विटी और फिक्स्ड इनकम के बीच री-बैलेंसिंग हो जाती है। यह काम इस तरह होता है कि निवेशकों का टैक्स बचे। इसके लिए निवेशकों को इसे ट्रैक करने की जरूरत भी नहीं होती। पीजीआईएम इंडिया बैलेंस्ड एडवांटेज फंड इसके लिए जो डायनैमिक एसेट आवंटन मॉडल अपनाएगा वह 15 साल का रोलिंग पीई एवरेज को लॉन्ग एवरेज पीई के तौर पर मानेगा ताकि इक्विटी मार्केट में बदले ट्रेंड पर पकड़ा जा सके। जैसे-जैसे मार्केट मैच्योर होगा, हमारा मानना है कि यह फीचर इस मॉडल को प्रासंगिक बनाए रखेगा। यह फंड उन निवेशकों के लिए मुफीद है जो मॉडरेट हाई रिस्क लेना चाहते हैं। इस फंड में निरंतर लॉन्ग टर्म रिस्क एडजेस्टेड रिटर्न देने की क्षमता है। साथ ही इक्विटी और फिक्स्ड इनकम इंस्ट्रूमेंट्स के बीच कारगर तरीके से निवेश के आंवटन से भी यह निवेशकों के लिए बेहतरीन अनुभव साबित होगा।”

इस स्कीम में शुरुआती न्यूनतम निवेश 5,000 रुपये है। इसके बाद यह 1 रुपये के मल्टीपल में बढ़ता जाएगा। अतिरिक्त आवेदन राशि 1,000 रुपये है और यह भी इसके बाद एक रुपये के मल्टीपल में बढ़ता जाएगा। स्कीम टैक्स एफिशिएंट डायनैमिक एसेट आवंटन मॉडल को अपनाएगी क्योंकि फंड इक्विटी ओरिएंटेड स्कीम की कैटेगरी में है। इक्विटी में न्यूनतम 65 फीसदी आवंटन डायरेक्शनल इक्विटी और आर्बिट्रेज का मिश्रण होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *