इस साल शून्य रह सकती है एशिया की वृद्धि दर: IMF

वाशिंगटन: कोरोना वायरस महामारी की रोकथाम की दिशा में एशियाई देश अन्य क्षेत्रों की तुलना में बेहतर प्रदर्शन कर रहे हैं और ये देश तेजी से वापसी कर सकते हैं। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के एक शीर्ष अधिकारी ने यह टिप्पणी की। आईएमएफ के निदेशक (एशिया एवं प्रशांत विभाग) चांग योंग री ने कहा कि एशिया में कोरोना वायरस का असर हर क्षेत्र में होगा तथा गंभीर व अप्रत्याशित होगा।

उन्होंने कहा, ‘‘एशिया अभी भी अन्य क्षेत्रों की तुलना में बेहतर कर रहा है और तेज वापसी कर सकता है। एशिया की औसत वृद्धि दर अन्य क्षेत्रों की तुलना में अधिक है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमें 2020 में एशिया की वृद्धि दर शून्य रहने का अनुमान है। यह काफी बड़ी गिरावट है क्योंकि पिछले 60 साल में कभी भी एशिया की वृद्धि दर गिरकर शून्य पर नहीं आयी। री ने कहा कि यह वैश्विक वित्तीय संकट के दौरान के 4.7 प्रतिशत तथा एशियाई वित्तीय संकट के दौरान के 1.3 प्रतिशत से भी कम औसत होगा।

चूंकि अन्य देशों की तुलना में वायरस का कहर एशिया में पहले शुरू हुआ, एशिया क्षेत्र वापसी की राह पर भी पहले लौट सकता है। एशिया की वृद्धि दर 2021 में बढ़कर 7.6 प्रतिशत हो जाने की उम्मीद है। उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन इसका यह मतलब नहीं हुआ कि पूरे नुकसान की भरपाई तुरंत हो जायेगी। वैश्विक अर्थव्यवस्था में गिरावट का एशिया पर असर होगा इससे पूरे 2021 के दौरान भी उत्पादन का स्तर महामारी के पहले के स्तर की तुलना में कम ही रह सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *